Saturday, 31 May 2014

आस

उत्तराँचली भाषा, साहित्य अर सँस्क्रति क सर्जन व सँवर्धन क उद्देश्य सी आयोजित काब्य अर साँस्क्रतिक सम्मेलन - 2014 मा सकारात्मक सोच अर आशावादी आस पर लिखीँ मीन अपणी  कविता “आस” प्रस्तुत करी। आप सभी दगड़ियों  कु दगड भी सामल्यात  कारण  चांदु । 




आस, क्या होँदी आस
आस, कन होन्दी आस
आस, कख होन्दी आस
आस,कैसी होन्दी आस

आस, उम्मीद की एक लौ छ आस
आस, सुपनियोँ कु सँसार छ आस
आस, लम्बी जग्वाळ कु परिणाम छ आस
आस, सुख: दुख कु अह्सास छ आस

आस, माँ तै बेटा सी, कमाण की आस
आस, भैजी तै भुल्ली की रखडी की आस
आस, दादा तै नाती की औण की आस
आस, अर ब्वारी तै स्वामी सी मिलण की आस

आस, बाँझ कुडियोँ तै मनखियोँ की आस
आस, खाली गाँवो तै रैबासियोँ की आस
आस, बुढि- बुढियो तै सहारु की आस
आस, पहाड अर पहाड क लोगो तै विकास की आस

आस, सुखदी फसलोँ मा द्योरु की, बरखण की आस
आस, उबादीँ ग्वेरोँ की जिकुडी तै पाणी की आस
आस, छुँयाळ पण्डेरियोँ तै अपणी, अग्ल्यार की आस
आस, भुखन बिलखुदु बेसाहरु तै खाणु की आस

आस, खाली जँगळो मा घसेरियोँ तै, घास की आस
आस, खरड डाँडियो तै हरी भरी, हरियाली की आस
आस, सुख्याँ धारोँ मा फिर सी पाणी औण की आस
आस, बाँझ पुंगडियोँ मा लहराँदी फसलोँ की आस

आस, दुर परदेश बटी घर जाण की आस
आस,  बार-त्योहारोँ मा सँग रैण की आस
आस, गौळ भिँटे क खुद बिसराण की आस
आस, अर दगडिया कु ब्यो मा छ्क्की क नचण की  आस

आस, भटकद बेरोजगारोँ तै नौकरी की आस
आस, मेहनती मजदुरोँ तै तनख्वा की आस
आस, हफ्ता भर काम करी क छुट्टी की आस
आस, अर मालिकोँ तै छ्क्की क मुनाफू कमाण की आस

आस, तिलू रौतेली की मन मा, जीतण की आस
आस, माधो सिँह भँडारी तै मलेथा की, कुल की आस
आस, राजुला तै मालोशाही की, औण की आस
आस, श्री देव सुमन तै राज कर सी, मुक्ति की आस

आस, साहित्य तै अच्छु लिखवारोँ की आस
आस, सँस्क्रति तै भाषा प्रेमियो की आस
आस, भाषा तै वेकी बुलदारोँ की आस
आस, बुलदारोँ तै और बचाँळ्ण्दरोँ की आस

आस, मेरी आप क प्रति आस
आस, सुख अर सम्रधी की आस
आस, हँसी अर खुशी की आस
आस, प्रेम अर भाईचारा की आस
आस, मानवता अर दयालुता की आस

निश्कर्ष:-
सच्चु मन सी सच्ची आस
खुद पर हो गर विश्वास
कुछ करण की हो ललकार
सुपनियाँ होन्दा वेक सच साकार
सुपनियाँ होन्दा वेक सच साकार



सर्वाधिकार सुरक्षित © विनोद जेठुडी, 29 मई 2014 @ 8:10 A.M